एक ईमानदार बीड़ी पीने वाले की आप बीती

आज एक ईमानदारी बीड़ी पीने वाले से मुलाकात हो गई। वह आया तो था मेरे पास एक हिलते हुए दांत के लिए था लेकिन उस के मुंह में झांकने पर यह दिखा कि तंबाकू की वजह से उस के मुंह में गड़बड हो रही है।

गाल के अंदरूनी हिस्से में इरैथ्रोप्लेकिया (मुंह के कैंसर की पूर्व-अवस्था)

यह उस 56 वर्षीय बंदे के गाल के अंदरूनी हिस्से की तस्वीर है और यह जो बदलाव आप उस के मुंह के अंदर देख रहे हैं इसे चिकित्सा भाषा में एरिथ्रोप्लेकिया (erythroplakia) कहते हैं.. यह मुंह के कैंसर की पूर्व-अवस्था है (Oral pre-cancerous condition). क्या यह बदलाव इस बंदे में आगे चलकर कैंसर में तबदील होगा, अगर ऐसा होना है तो यह कितने समय में हो जायेगा –इस का जवाब देना मुश्किल है।

लेकिन एक बात तय है कि अगर यह बंदा बीड़ी मारना छोड़ दे और इस बदले हुये गाल के अंदरूनी हिस्से का उपचार करवा ले तो बचाव ही बचाव है। लेकिन यह क्या यह तो बीड़ी छोड़ने की बात सुनने को तैयार ही नहीं है।

उस ने बताया कि वह स्कूल के दिनों से ही बीड़ी पी रहा है — एक बात ज़रूर है कि उन दिनों में यह काम चुपके चुपके होता था लेकिन बड़े होने पर नौकरी-वोकरी मिलने पर यह काम धड़ल्ले से होने लगा …दो एक बंडल पी जाना तो कोई बात ही नहीं है।

मैं बहुत बार तंबाकू के मुंह के अदंरूनी हिस्सों पर होने वाले प्रभाव के बारे में, तंबाकू की मुंह के कैंसर में भूमिका के बारे में लिखता रहता हूं … कहीं पढ़ने वाले ये तो नहीं समझते कि तंबाकू के दुष्प्रभाव मुंह ही में होते हैं…नहीं नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, वह क्या है कि मेरा काम ही सारा दिन लोगों के मुंह में तांक-झांक करने का है, इसलिए मुंह में होने वाले दुष्प्रभाव तुरंत मेरी नज़र में आ जाते हैं। और कईं बार मरीज़ों की भीड़ के वजह से ऐसे बंदों के दूसरे अंगों के बारे में बात करने का अवसर ही कहां मिलता है।

लेकिन यह बंदा कुछ अलग था. मुझे भी बड़ा अजीब सा लगा कि यह तो सीधा ही कह रहा है कि बीड़ी तो मैं छोड़ ही नहीं सकता। हां, उस ने अपनी बात आगे बढ़ाते हुए आगे कहा कि डाक्टर साहब मेरे दो आप्रेशन हो चुके हैं, हार्ट अटैक भी हो चुका है। उस ने अपने पेट में आप्रेशन के निशान भी तुरंत दिखा दिए।

वह बता रहा था कि पेट के अल्सर के आप्रेशन के लिए वह पीजीआई चंडीगढ़ में तेईस दिन दाखिल भी रहा …. लेटे लेटे कैसे पीता बीड़ी? –इसलिए उसे उन दिनों के दौरान ऐसे लगा जैसे कि अब तो जैसे बीडी की आदत छूट गई …लेकिन नहीं ऐसा कैसे हो पाता, जैसे ही वह अपनी पुरानी दोस्ती की मंडली में वापिस आया तो बस झट से वापिस शुरू हो गया बीड़ी पीने-पिलाने का दौर।

बता रहा था कि पहले तो बच्चे कभी खास मना नहीं करते थे लेकिन जब से हार्ट-अटैक हुआ तब ही से उस के बच्चे जो अब बड़े बडे हो चुके हैं, उस के पीछे पड़े रहते हैं। यह बात बताते हुये वह हंस भी पड़ा कि नौबत यहां तक आ गई कि इसी चक्कर में होने वाली खींचा-तानी के दौरान बनियान पर फट चुकी है—यह पूछना मैंने कतई मुनासिब इसलिए नहीं समझा कि उस की या बेटों की !!

जब मैंने उसे यह ऊपर वाली तस्वीर दिखाई और साथ में यह समझाने की कोशिश की कि यह तो मुंह के अंदर जो तंबाकू ने कहर बरपाया हम ने देख लिया लेकिन शरीर के अंदर क्या क्या प्रभाव हो रहे हैं, वे तो हार्ट अटैक, पेट के अल्सर जैसे रोगों के द्वारा ही पता चलता है ….. मेरे इतना कहने पर उस ने बताया कि उस को पक्षाघात का अटैक (paralysis) भी कुछ महीने पहले हो चुका है, मुहं टेढ़ा हो गया था, शरीर के एक तरफ़ का हिस्सा बिल्कुल चल नहीं रहा था लेकिन फिर जैसे तैसे ठीक हो गया हूं। इस अटैक की वजह से वह कुछ दिन बोल भी नहीं पाया था।

लेकिन फिर भी वह अपनी बीड़ी न छोड़ने वाली बात पर अडिग है …कह रहा था कि मैंने जब भी इसे छोड़ने की कोशिश की है तो मैं पागल जैसा हो जाता हूं …. काम ही नहीं कर पाता हूं …बीड़ी पीते ही चैन की सांस आती है।

मेरे इतना कहने पर कि बीड़ी छुड़वाने के लिए तो एक च्यूंईंग गम (nicotine chewing gum) भी आ गई है …उस ने बताया कि उस ने बीड़ी छुड़वाने के लिये कुछ देसी दवा भी लेनी शुरू कर दी … लेकिन उस दवाई से तो बीड़ी से नफ़रत क्या होनी थी, बल्कि यह लत दौगुनी हो गई। फिर बताने लगा कि उस ने सभी पापड़ बेल कर देख लिये हैं …तलब होने पर सूखा आंवला मुंह में रखने से लेकर, छोटी इलायची, दालचीनी ….सब कुछ अजमा लिया है लेकिन अब उसने जान लिया है कि यह बीड़ी इस जीवन में तो उस का दामन नहीं छोड़ेगी।

पता नहीं जाते जाते उस के मुंह मे यह कैसे निकल गया कि मैं इस आदत से निजात पाना चाहता हूं और कोई ऐसा मिले जो मुझे इस आदत से छुटकारा दिला दे तो मैं उसे एक हज़ार का ईनाम तक देने को तैयार हूं …जब वह यह बात कर रहा था उस समय मेरे अस्पताल का एक अन्य कर्मी अंदर दाखिल हुआ था, मैंने उसे संबोधित करते हुये कहा कि देखो, यह यह चैलेंज है इस बंदे का … इन की बीड़ी छुड़वाओ और एक हज़ार का ईनाम पाओ … और इस का फायदा यह होगा कि तुम्हारी बीड़ी की आदत भी छूट जायेगी। लेकिन उस ने तो यह कह कर पल्ला झाड़ लिया कि मुझे तो कुछ दवाईयां लिख दो, बहुत से मरीज़ उस का इंतजार कर रहे हैं।

यह बंदा यह भी कह गया कि मैंने तो अपने घर वालों को यहां तक कह दिया है कि देखो, मैं बीड़ी तो किसी कीमत पर नहीं छोडूंगा —अगर मुझ पर ज़्यादा दबाव डालोगे तो मैं घरबार सब कुछ छोड़ कर कहीं चला जाऊंगा, फिर मुझे ढूंढते रहना।

अब उस की यह बात सुन कर तो मैं भी चौंक गया … लेकिन एक बात का विचार ज़रूर आया कि एक हज़ार के ईनाम को जो घोषणा उस ने की वह अरबों-खरबों की सेहत की तुलना कितनी कम है!!

आज बीड़ी के बारे में लिखने का ध्यान इसलिए आ गया कि सुबह ही दा हिंदु में एक अच्छी खबर पढ़ने को मिली की अखिलेश यादव ने यू पी में तंबाकू पर नियंत्रण करने के लिये कमर कस ली है … आप भी यह जान कर चौंक जाएंगे कि बंबई के टाटा मैमोरियल अस्पताल में मुंह के कैंसर के जितने रोगी इलाज करवाने आते हैं उन में से हर तीसरा बंदा उत्तर प्रदेश से संबंध रखने वाला होता है। बहुत चिंताजनक बात है … और मैं इस कदम के लिए अखिलेश यादव को बधाई देता हूं…………….जहां भी, जिस भी रूप में इस तंबाकू की ऐसी की तैसी करने की बात होती है तो मैं वाहवाई किये बिना नहीं रह सकता। और जहां तक मुंह के कैंसर की बात है …. ये मरीज़ भी अकसर गंभीर अवस्था में ही टाटा अस्पताल जैसी जगह तक पहुंचते हैं … यह भी एक हारी हुई लड़ाई लड़ने जैसी ही बात होती है …. जब 23-24 साल से युवा इस मुंह के कैंसर का निवाला बनने लगें तो मामला सच में बिल्कुल गड़बड़ है।
Action Plan soon to make UP Tobacco-free

कईं बार सोचता हूं कि इस धूम्रपान को इस तरह के गानों ने भी तो कहीं न कहीं बढ़ावा दिया ही होगा ….

 

Advertisements

2 thoughts on “एक ईमानदार बीड़ी पीने वाले की आप बीती

    • सही बात है …मुझे लगता है उस ज़माने में लोग इस के बाते में इतनी चेतनता नहीं थी।
      आपने लेख देखा—धन्यवाद।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s