आइसक्रीम के नाम पर आखिर बिक क्या रहा है?

आइसक्रीम शॉप में सचेत (??) करता यह पोस्टर

कुछ दिन पहले की बात है ..मैं एक आईस-क्रीम की दुकान से आईस-क्रीम खरीदने गया… जैसे कि दुकानदारों की आदत सी होती है, उस ने अपने आप ही मुझे अपनी आईस-क्रीम के फायदे गिनाने शुरू कर दिये। बताने लगा कि केवल उन के द्वारा बेचे जाने वाले ब्रांड की आइसक्रीम ही असली ताज़ा दूध से बनती है और जितनी भी आईसक्रीम के नाम से बेचे जाने वाले अन्य प्रोडक्ट्स हैं, वे फ्रोज़न डेज़टर्स हैं और वे ज़्यादातर वेजिटेबल ऑयल्स/फैट्स से बनाए जाते हैं। मेरी मन में थोड़ी बहुत बात तो पड़ गई।

उस ने अपनी दुकान में एक पोस्टर भी चिपका रखा था जिस की तस्वीर आप ऊपर देख रहे हैं।

अकसर जब भी आईसक्रीम की बात चलती है तो अपना बचपन याद आ ही जाता है …जब पांच पैसे में हमें वह साईकिल पर आने वाला बर्फ की कुल्फ़ी से ही बेहद खुशियां दे जाता करता था, है कि नहीं? …और जब कभी अपना बजट 10 पैसे का होता था तो वह तीले वाली कुल्फ़ी खरीद लिया करते थे …जिसे वह रेहड़ीवाला हमें थमाते समय रबड़ी में डुबोना कभी नहीं भूला करता था। आज जब पीछे देखता हूं तो लगता है कि उस ज़माने में तीले वाली कुल्फ़ी खाना भी शायद एक टुच्चा-सा स्टेट्स सिंबल ही हुआ करता था।

 

बर्फ के गोले वाले दिन याद आये कि नहीं?

उन दिनों की ही बात है … बर्फ के गोले खाने वाले दिन। कोई सोच विचार नहीं कि बर्फ किस पानी की बनी है, उस में डलने वाले रंग परमिटेड हैं कि नहीं, शक्कर की जगह सकरीन तो इस्तेमाल नहीं की गई ….कुछ भी सोच विचार नहीं, बस बर्फ़ के गोले वाले ने बनाया गोला और हम टूट पड़ते थे उस पर वहीं ही …और वह बार बार उस पर मीठा रंग डलवाने का सिलसिला।

अरे यार, यह तो मैं किधर का किधर का निकल गया … बात चल रही थी आइसक्रीम की और फ्रोज़न-डेज़टर्स की….अब बचपन की यादें शेयर करने लगूंगा तो हो गई मेरी बात पूरी !!

अच्छा तो उस दुकानदार ने मुझे वह अपनी दुकान में लगा पोस्टर भी दिखा दिया और अपनी आइसक्रीम के ही आइसक्रीम होने के दावे को मेरे सामने पेश कर दिया। बात आई गई हो गई और मैंने अपनी बीवी-बच्चों से भी यह बात कही …उन्होंने भी इस पर छोटी मोटी टिप्पणी कर के अपने अपने आइसक्रीम-कप की तरफ़ ध्यान देना ही ज़ारी रखा।

अचानक अखबार को कैसे ध्यान आ गया इस जमे हुये तेल के बारे में लिखने का !

कल ही हिंदी के एक प्रसिद्द समाचार-पत्र के दूसरे पन्ने पर ही यह खबर दिख गई … हैरानगी हुई कि ज़्यादातर बातें उस आइसक्रीम वाले पोस्टर से ही मेल खा रही थीं। इस के सत्यता या असत्यता पर टिप्पणी किये बिना मुझे यही लगा कि यह ख़बर प्रायोजित सी लग रही है जैसे किसी कंपनी ने ही इसे लगवाया हो।

इस खबर में लिखी बातें या उस आइसक्रीम के बूथ पर लगे पोस्टरों में सच्चाई हो सकती है लेकिन सोचने की बात यह है कि जो कंपनी ऐसा दावी कर रही है कि आइसक्रीम ताज़ा दूध से बनती है ….क्या गारंटी है कि उसके प्रोड्क्ट्स ताज़ा दूध से ही बनते होंगे।

बम्बई चौपाटी पर वह दुकान जहां हमने दस साल बहुत आइसक्रीम खाई ...

यार मैं इस पत्तल वाली आइसक्रीम को कैसे भूल गया ..

बाज़ार में बिकने वाले दूध की —जिन में सुप्रसिद्ध कंपनियों के पाउच भी शामिल हैं — कितनी गुणवता है, यह सब कुछ अब देश से छिपा नहीं है, ऐसे में मुझे कभी भी यह डाइजैस्ट नहीं हुआ कि 60-70-80 रूपये में एक बड़ी सी ब्रिक में क्या बिक रहा होगा। इतने में तो ढंग का दो किलो शुध्द दूध तक नही आ पाता।

चलिए,इस की तो बात छोड़िए …उस पांच पांच दस दस रूपये में बिकनी वाली सॉफ्टी में क्या क्या डाला जाता होगा, देख कर डर लगता है। डर तो भी लगता है जब गाड़ी के दूसरे डिब्बे में कोई सफ़ेद रंग की कुल्फी दो-दो रूपये में बेचने वाला आ धमकता है ………….और लोग खूब खाते हें.

आप भी सोच रहे होंगे कि यार तू तो डरता ही रहेगा, लेकिन क्या करें, देख कर मक्खी तो नहीं निगली जाती। इतना तो मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि ये जो पांच-पांच दस-दस रूपये में सॉफ्टी बेचने वाले स्टाल जगह जगह खुल गये हैं, इन में दूध तो हो नहीं सकता, उस की जगह पर क्या क्या डाला जाता है, इस के बारे में जानना होगा। लालच की बीमारी इतनी ज़्यादा बढ़ चुकी है कि अधिकतर खाध्य पदार्थ बेचने वाले को अपने चंद सिक्कों के मुनाफ़े के आगे ग्राहक की सेहत कुछ भी नहीं लगती।

मेरे विचार में तो जितने भी प्रोडक्ट्स बाज़ार में उपलब्ध हैं उन से यह अपेक्षा करना कि वे दूध से तैयार हुये हैं, यह सरासर हिमाकत होगी…इन में दूध न होने का मेरा पक्का विश्वास है। जो दूध से तैयार होने की ज़्यादा दुहाई देते हैं वे भी ताज़ा-शुध्द दूध तो इस्तेमाल करने से रहे, पावडर वाले दूध की हर जगह भरमार है...और तो और सिंथेटिक दूध के बारे में सचेत कर कर के अब चैनलों वाले इस विषय पर चुप ही हो गये हैं …..या आईपीएल में नित्य-प्रतिदिन होने वाले लफड़ों ने, निर्मल बाबा जी के दिव्य चमत्कारों की चकाचौंध ने उन्हें भी अपने घेरे में ले लिया है।

बहरहाल, कुछ भी हो बाज़ार में बिकने वाले आइसक्रीम का स्वाद तो अब फीका पड़ गया है।

यह पोस्ट यहीं बंद करता हूं ….यह तो केवल यादों की बारात सी ही पोस्ट लग रही है … इस विषय पर विशेष सामग्री लेकर जल्द ही हाज़िर होता हूं। तब तक यादों की बारात में ही शामिल हो जाते हैं ……..

Advertisements

विवाह-शादियों में शिरकत तो करें लेकिन आखिर खाएं क्या?

कल ऐसे ही हम कुछ दोस्त लोग बैठे हुये थे तो चर्चा चली कि आखिर क्यों किसी विवाह-शादी या पार्टी-वार्टी में खाकर तबीयत क्यों बिगड़ सी जाती है, हम लोग ऐसे ही मज़ाक कर रहे थे कि पहले तो हम डाक्टर लोग ही कह दिया करते थे कि इन पार्टियों आदि में तो बस थोड़ा दही-चावल लेकर छुट्टी करनी चाहिए। लेकिन अब तो वह दही भी उस लिस्ट में गायब होने लगा है।

चलिये थोड़ा विस्तार से देखें तो सही कि आखिर हम किस स्टॉल पर जाएं और किस पर ना जाएं—
आप में से कुछ लोगों को लग सकता है कि इतने भ्रम किये जाएंगे तो फिर कैसे चलेगा, लेकिन अगर हम यह सोचते हैं तो फिर पेट की तकलीफ़ों के लिये भी तैयार ही रहना चाहिये। अच्छा तो हम यहां चर्चा उन वस्तुओं की ही करेंगे जिन से बच के रहना चाहिये।
जहां तक हो सके इन समारोहों में पानी पीने से बचना चाहिये —–यह कैसे संभव है, मुझे भी नहीं मालूम—क्योंकि अकसर पानी प्रदूषित न भी हो तो भी उस की हैंडलिंग गलत ढंग से होने से बीमारीयां फैलती ही हैं। और यह जो आजकल गिलास की पैकिंग का ज़माना आ गया है अब इन में भी कितनी शुद्धता है कितनी नहीं, कौन जाने। और इस पानी को पी लेने से शायद उतनी प्यास नहीं बुझती जितना अपराधबोध हो जाता है कि यार, इस तरह के प्लास्टिक के गिलास में पानी पीना कहां से पर्यावरण की सेहत के अनुकूल है!!
चलिये, आगे चलें —अभी बारात आने में टाइम है— इसलिये पानी-पूरी के स्टॉल का चक्कर लगा कर आते हैं — अब इस में इस्तेमाल किये जाने वाले पानी के बारे में आप का विचार है, तरह तरह के इसैंस, कलर, फ्लेवर आदि को नज़र-अंदाज़ कर भी दें तो जो बंदा अपने हाथ के साथ साथ आधी बाजू को भी उस खट्टे-मीठे पानी के मटके में बार बार डाल रहा है, और किसी किसी फेशुनबल, हैल्थ-कांसियस पार्टी में उस नें डाकटरों वाले दस्ताने डाल रखे होते हैं —- आप यही पूछ रहे हैं न कि फिर पानी पूरी भी न खाएं —– यह आप का निर्णय है। और बर्फ के गोलों, शर्बत आदि में कौन सा पानी- कौन सी बर्फ इस्तेमाल हो रही है, इसे देखने की किसे फुर्सत है।
मिल्क से बने उत्पाद — पिछले तीन सालों में मिलावटी नकली दूध के बारे में इतना पढ़ सुन चुका हूं कि कईं बार सोचता हूं कि इस के बारे में तो मेरा ब्रेन-वॉश हो गया है। और यह खौफ़ इस कद्र भारी है कि मैं बाज़ार से कभी भी चाय-काफ़ी पीना पिछले कईं महीनों से छोड़ चुका हूं। अच्छा तो यह भी देखते हैं कि दूध से बनी क्या क्या वस्तुयें इन पार्टियों में मौजूद रहती हैं —- मटका कुल्फी, आइसक्रीम, पनीर, दही, कईं कईं जगहों पर रबड़ी वाला दूध — मेरे अपने व्यक्तिगत विचार इन सब के बारे में ये हैं कि ये सब ऐसे वैसे दूध से ही तैयार होते हैं —और अगर कुछ नहीं भी है तो भी मिलावट की तो लगभग गारंटी होती ही है। ऐसे में क्यों ऐसा कुछ खाकर अगले चार दिन के लिये खटिया पकड़ ली जाए।
और यह इधर क्या नज़र आ रहा है—–इतनी लंबी लाइन यहां क्यों हैं? —यहां पर फ्रूट-चाट का स्टॉल है और सत्तर के दशक में अमिताभ बच्चन की फिल्म के पहले दिन पहले शो जितनी भीड़ है — लेकिन यहां भी दो तीन चीजें ध्यान देने योग्य हैं — बर्फ जिन पर ये फल कटे हुये सजे पड़े हैं, फलों की क्वालिटी —कुछ तो लंबे सयम से कटे होते हैं और गर्मी के मौसम में तो इस से फिर पेट की बीमारियां तो उत्पन्न होती ही हैं। इसलिये अगली बार फ्रूट-चाट के स्टाल की तऱफ़ लपकने से पहले थोड़ा ध्यान करिये।
और हां सलाद के बारे में तो बात कैसे हम लोग भूल गये —-न तो ये खीरे,टमाटर,ककड़ी, प्याज ढंग से धोते हैं और न ही काटते और हैंडलिंग के समय कोई विशेष साफ सफाई का ध्यान रखा जाता है —तो फिर क्या शक है कि इन से सेहत कम और बीमारी ज़्यादा मिलने की संभावना रहती है। पता नहीं अकसर लोग घर में तो साफ-सुथरे तरीके से तैयार किये गये सलाद से तो दूर भागते हैं लेकिन इन सार्वजनिक जगहों पर तो सलाद ज़रूर चाहिये।
हां, और क्या रह गया ? —हां, उधर तरफ़ से जलेबियों और अमरतियों की बहुत जबरदस्त खुशबू आ रही है। तो, चलिये एक एक हो जाये लेकिन रबड़ी के साथ तो बिलुकल नहीं, क्योंकि पता नहीं क्यों हम भूल जाते हैं कि इतनी रबड़ी के लिये कहां से आ गया इतना दूध —–लेकिन जलेबी-अमरती भी तभी अगर उस में नकली रंग नहीं डाले गये हैं। और कृपया यह तो देखना ही होगा कि कहीं ये बीमारी परोसने वाले दोने तो नहीं है।
आप को यह पोस्ट पढ़ कर यही लग रहा है ना कि डाक्टर तूने भी झाड़ दी ना हर बात पर डाक्टरी — मैं मान रहा हूं कि आप मुझ से पूछना चाहते हैं कि फिऱ खाएं क्या— चुपचाप थोड़े चावल और दाल लेकर लगे रहें।
मुझे भी यह सब लिखते बहुत दुःख हो रहा था क्योंकि कोई अगर मेरे को पहली बार पढ़ने वाला होगा तो उसे मैं बहुत घमंडी लगूंगा लेकिन तस्वीर का दूसरा रूख दिखाना भी मेरा कर्तव्य है। मुझे इस बात का भी अच्छी तरह से आभास है कि इन पार्टियों में जो सामान इस्तेमाल हो रहा है उन में घरवालों का रती भर भी दोष नहीं है —- वे भी क्या करें, पैसा ही खर्च सकते हैं —मिलावट हर चीज़ में इतनी व्याप्त हो गई है कि वे भी क्या करें ?
और अब बात अपने आप से पूछता हूं कि अगर मेरे घर में कोई इतना बड़ा समारोह होगा तो क्या मेरे पास इन सब मिलावटी चीज़ों को खरीदने-परोसने के अलावा कोई विकल्प है—— नहीं है, तो फिर इन सब से बचते हुये अपनी सेहत की रक्षा करने का एक ही मूलमंत्र बच जाता है ———अवेयरनैस —–इन सब बातों के बारे में जगह जगह पर बात करें ताकि जनमानस को जागरूक किया जा सके।
क्या हुआ अभी आप के दाल-चावल ही खत्म नहीं हुये? —- वैसे कैसी रही पार्टी — ओ हो, जाते जाते उस मीठे पान को चबाने से पहले यह ध्यान रखिये कि उस पर उस मिलावटी चांदी का वर्क तो नहीं चढ़ा हुआ। और एक बात, दांतों में टुथ-पिक का इस्तेमाल सख्त वर्जित है।
मैं भी क्या—- आप की पार्टी का मज़ा किरकिरा कर दिया —–तो फिर इस समय यह गाना सुनिये जो मुझे भी बहुत पसंदे हैं —– विशेषकर इसके बोल —— धागे तोड़ लायो चांदनी से नूर के ………………………….वाह, भई, वाह, यह किस ने लिखा है, क्या आप बता सकते हैं ?

एनडीटीवी इंडिया ने खोल दी मीठे ज़हर की पोल

आजकल मैं एनडीटीवी इंडिया खूब देखता हूं —मेरे लड़के ने मुझे हिदायत दी हुई है कि हिंदी में खबरें सुननी हैं तो एनडीटीवी इंडिया देखा करो। कल रात एनडीटीवी पर एक बहुत बढ़िया कार्यक्रम देखने का अवसर मिला जिस में उन्होंने आज कल मिठाईयों के रूप में बिक रहे मीठे ज़हर की अच्छी तरह पोल खोली। कार्यक्रम की प्रस्तुति भी बहुत प्रभावपूर्ण थी।

Mithai ke dukaanअकसर ऐसे कार्यक्रम देख कर लगने लगता है कि ये जो हिंदी के न्यूज़-मीडिया चैनल हैं ये भी आम आदमी की आंखे और कान ही हैं। इन के संवाददाता इतनी मेहनत कर के, अपने आप को जोखिम में डाल के ऐसी ऐसी बातें जनता के सामने लाते हैं जिन के बारे में वैसे तो उसे कभी पता चल ही नहीं सकता।

लेकिन सोचने की बात यह भी है कि जागरूकता से भरपूर इतने बढ़िया बढ़िया कार्यक्रम देखने के बाद क्या पब्लिक सब तरह का कचरा खाने से गुरेज़ करनी लगती है–जिस तरह से बाज़ार में मिठाईयों आदि की दुकानों पर भीड़ टूट रही होती है उसे से मुझे तो ऐसा नहीं लगता। लेकिन लोगों के मन में आज के आधुनिक मीडिया द्वारा इस तरह की बातें डालना भी एक बहुत अच्छा प्रयास है —-ठीक है जब किसी को ज़रूरत महसूस होगी वह उस ज्ञान को इस्तेमाल कर ही लेगा (इतनी जल्दी भी क्या है यारो, जब जीना है बरसों !!!)..

असर होता है—डाक्टर हूं, सब देखता, पढ़ता-सुनता रहता हूं —-अभी कुछ दिन पहले की ही बात है जब टीवी पर पाव रोटी या पांव रोटी का कार्यक्रम आ रहा था —- उस दिन के बाद डबलरोटी खाने की इच्छा ही नहीं हुई। और अब घर में जब कभी ब्रैड आती है तो केवल एक ही बढ़िया ब्रांड की ही आती है —- लोकल ब्रांड तो बच्चे अपने डॉगी को भी नहीं डालते —-कहते हैं कि जो हम नहीं खाते इस छोटू को भी नहीं देंगे।

जिस तरह से कल एनडीटीवी ने दिखाया कि किस तरह से सिंथैटिक दूध बनता है —जिस में दूध तो होती ही नहीं, केवल कैमीकलों की ही मिश्रण होता है जो कि बीसियों भयंकर बीमारियों की खान होते हैं। मिलावटी मावे में क्या क्या होता है इसे देख कर तो लगता नहीं कि कोई मावे के पास भी फटक जाए।

देसी घी की पोल भी अच्छी तरह से खोली गई कि उस में कितनी तरह के ज़हरीले पदार्थ डाले जाते हैं। कल का कार्यक्रम देख कर छोटे बच्चे भी कहने लगे कि लगता है अब तो केवल दाल-रोटी पर ही टिक के रहना चाहिये।

dabba mithai kaमिठाईयां किसे अच्छी नहीं लगतीं—-मुझे भी बेसन के लड्डू, पतीसा और बर्फी बहुत अच्छी लगती है लेकिन महंगी से महंगी दुकान की भी खरीदी इन मिठाईयों पर मेरा तो भई बिल्कुल भी भरोसा नहीं रहा। इसलिये मैं कभी गलती से एक आधा टुकड़ा खा लूं तो भी मैं अपराधबोध का शिकार ही हुआ रहता हूं कि सब कुछ पता होते हुये भी …..।

हां तो बताया यह भी जा रहा है कि अगर हम इस तरह की मिलावटों से बचना चाहते हैं तो किसी मशहूर दुकान से ही खरीदी मिठाई खाएं अथवा स्वयं मिलावट की जांच कर लें। लेकिन मैं इस से इत्तफाक नहीं रखता —-किसी दुकान में बढ़़िया कांच लगवा लेने से ,एक-दो स्पलिट एसी फिट करवा लेने से क्या क्वालिटी की भी गारंटी हो जाती है। और जहां तक मिलावट को खुद जांचने की बात है अभी तक तो चांद को मांगने जैसी बात लगती है। लेकिन भवि्ष्य में इस के बारे में कुछ हो तो बहुत बढ़िया रहेगा।

मैं कईं बार सोचता हूं लोग ठीक ही कहते हैं —हमारे यहां शायद जानें बहुत सस्ती हैं। मिलावट के बारे में टीवी चैनल इतनी जागरूकता फैला रहे हैं लेकिन फिर भी यह गोरख-धंधा फल-फूल ही रहा है। दो दिन पहले कहीं पढ़ रहा था कि अमेरिका में एशियाई मुल्कों से आयात किये हुी सूखे आलूबुखारे बिक रहे थे —-जब वहां की फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने उन की जांच की तो उन में —- Lead (शीशा) की मात्रा बहुत अधिक पाई गई । तुरंत वहां पर उस एजेंसी ने लोगों को हिदायत दे दी कि इन सूखे आलुबुखारों से बच के रहो और यहां तक कि वहां की सरकार ने इस तरह के प्रोडक्ट्स की फोटो कंपनियों के नाम के साथ वेबसाईट पर भी डाल दी।

और एक हम हैं कि दीवाली आ रही है और शुद्ध मिठाई के लिये तरसे जा रहे हैं। मैं आज सुबह ही किसी के साथ हंसी मज़ाक कर रहा था कि देखना, खन्ना साहब, वही दिन वापिस आ जायेंगे जब हम लोगों को चीनी के खिलौनों एवं कुरमुरे से ही दीवीली मनानी पड़ा करेगी।

जावेद अख्तर ने लिखा है कि पंछी नदियां पवन के झोंके, कोई सरहद न इन्हें रोके, सोचा तूमने और मैंने क्या पाया इंसा होके ——-उसी तरह हम लोगों ने इतनी ज़्यादा तरक्की कर ली कि हम लोग मिठाई के लिये ही तरस गये —- बचपन में अमृतसर में खाई बर्फी का स्वाद अभी में मुंह में वैसे का वैसा ही है——-तब हमारे जैसे ही सिरफिरे हलवाई हुआ करते थे जो घंटों एक कड़ाई में पक रही दूध की रबड़ी में घंटों कड़छे मार मार के थकते नहीं थे ——-लेकिन अब कहीं भी न तो ऐसे सिरफिरे हलवाई ही दिखते है और न ही वैसी छोटी छोटी हलवाईयों की दुकानें जिन की खुशबू दूर से ही आ जाया करती थी और हम बच्चों का नाटक शूरू हो जाया करता था।

PS….Please let me know some good on-line tutorials for knowing the proper placement of pictures in a blog post. And also for putting some text-boxes, full-quotes etc. Thanks.

ब्रेड — पाव रोटी या पांव रोटी ?

कल रात टीवी पर मैं एक रिपोर्ट देख रहा था जिस में वह बाज़ार में मिलने वाली डबल-रोटी ( ब्रैड) की पोल खोल रहे थे — पाव-रोटी को पांव रोटी कहा जा रहा था।

उस प्रोग्राम में बार बार यही ऐलान किया जा रहा था कि यह प्रोग्राम देखने के बाद कल से आप अपना नाश्ता बदल लेंगे। अलीगढ़ की एक ब्रेड फैक्ट्री में खुफिया कैमरे की मदद से ली गई वीडियो दिखाई जा रही थी जिस में दिखाया जा रहा था कि किस तरह किस गंदे से फर्श पर ही मैदा फैला कर उसे पैरों से गूंथा जा रहा था।

प्रोग्राम ऐंचर करने वाली पत्रकार बिल्कुल सही कह रही थी कि यह गोरख-धंधा केवल छोटे शहरों एवं कस्बों तक ही महदूद नहीं है — मैट्रो शहरों में रहने वाले लोग यह ना समझ लें कि ऐसा तो छोटे शहरों में ही हो सकता है।

खुफिया कैमरे ले कर कुछ पत्रकार दिल्ली के नांगलोई, बादली एवं सुल्तानपुरी एरिया में भी जा पहुंचे। डबल-रोटी बनाने वाली जगहों पर गंदगी का वह आलम था कि क्या कहें —हर तरफ़ मक्खियां, कीड़े मकौड़े भिनभिना रहे थे जिधर मैदा गूंथा जा रहा था पास ही में वहां पर काम करने वालों की खाने की प्लेटें बिखरी पड़ी थीं।

इस स्टोरी को कवर करने वाला संवाददाता दिखा रहा कि कितना खराब मैदा इस्तेमाल किया जा रहा है —यह इतना कठोर हो चुका था कि उस के ढले बने हुये थे।

फिर इन पत्रकारों ने इन स्थानों से ली गई ब्रेड को दिल्ली की एक जानी-मानी लैब से टैस्ट करवाया। सिर्फ़ एक ब्रैंडेड ब्रेड को छोड़ कर बाकी सभी ब्रेड के सैंपल पीएच ( pH) में फेल पाये गये। और एक में तो फंगस ( फफूंदी) लगी पाई गई। मेरी तरह आप ने भी अनुभव किया होगा कि कईं बार घर में फ्रिज में रखी हुई तथाकथित फ्रेश-ब्रेड में भी फफूंदी लगी पाई जाती है।

और इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि ब्रेडों के इन विभिन्न सैंपलों में किस किस तरह के कैमीकल पाये गये । जो ब्रेड ग्राहक के हाथ में जाये वह बिल्कुल सफेद हो इसलिये गेहूं को ब्लीच गिया था। ब्रेड में प्लास्टर ऑफ पैरिस ( plaster of paris —POP) भी पाया गया। बाज़ार में खमीर की कमी होने की वजह से yeast ( खमीर) की जगह फिटकड़ी का इस्तेमाल किया गया था। इन के साथ साथ ब्रेड में घटिया किस्म के वनस्पति तेल, तरह तरह के प्रिज़र्वेटिव एव पोटाशियम ब्रोमेट भी पाया गया —इस का खुलासा रिपोर्ट में किया गया।

रिपोर्ट में बताया गया था कि लोग समझते हैं कि वे ब्रैंडेड ब्रेड खा रहे हैं —रिपोर्ट में यह भी दिखाया गया कि किस तरह से कूड़ा-कर्कट बीनने वालों से बड़ी कंपनियों की ब्रैडों के खाली रैपर ले कर उन में चालू किस्म की ब्रैड भर दी जाती है—-रिपोर्ट में कहा गया कि बाज़ार में बिकनी वाली 60 से 70 फीसदी डबल-रोटी कुछ इन्हीं तरह की परिस्थितियों में तैयार की जाती है जहां पर साफ़-सफ़ाई का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रखा जाता।

लेकिन मुझे इस रिपोर्ट में जो कुछ कमियां दिखीं वह यह थीं कि इसे बहुल लंबा खींचा गया —- लगभग एक-डेढ़ घंटे तक यह प्रोग्राम खिंच गया, और बीच में बार बार कमर्शियल ब्रेक। मुझे सब से ज़्यादा इन डबल-रोटियों की लैब रिपोर्ट देखने की ललक थी। लेकिन उन रिपोर्टों को टीवी की स्क्रीन पर दिखाया नहीं गया —- मुझे यह बहुत अटपटा लगा। एक प्राइवेट लैब के डायरैक्टर ने बस अपने हाथ में थामी रिपोर्ट में बता दिया कि अधिकतर सैंपल पीएच( pH) के मापदंड पर खरे नहीं उतरते पाये गये।

और जिन कैमीकल्स की बात मैंने ऊपर की उन के बारे में भी किसी लैब-रिपोर्ट को टीवी स्क्रीन पर नहीं दिखाया गया । मैं जिस बात की एक घंटे से प्रतीक्षा कर रहा था वह मुझे दिखी नहीं —इसलिये मुझे निराशा ही हुई।

यह भी बताया गया कि किस तरह से कुछ डबल-रोटी निर्माता इस की पैकिंग पर इस के तैयार होने की तिथि के आगे बाद की तारीख लिखवा देते हैं। ऐसा इसलिये किया जाता है कि तैयार होने के तीन-चार दिन बाद ब्रैड किसी के भी खाने लायक नहीं रहती।

आप को भी लग रहा होगा कि क्यों आप के पड़ोस वाला दुकानदार किसी अच्छी कंपनी की ब्रैड मांगने पर क्यों किसी स्थानीय, चालू किस्म के ब्रांड को आपको थमा देने में इतनी रूचि लेता है। सब मुनाफ़ाखोरी का चक्कर है। और जहां पर मुझे ध्यान है कि अधिकतर चालू किस्म की ब्रेड पर तो इस के तैयार होने की तारीख प्रिंट ही नहीं हुई होती —-इसलिये इन दुकानदारों की चांदी ही चांदी।

वैसे तो हम लोग भी नियमित ब्रैड लेने के बिल्कुल भी शौकीन नहीं है —जहां तक मेरी बात है मुझे तो मैदे ( refined flour) से बनी कोई भी वस्तु परेशान ही करती है —- तुरंत गैस बन जाती है, सारा सारा दिन सिर दर्द से परेशान हो जाता हूं —इसलिये मैं तो ब्रैड से बहुत दूर ही रहता हूं । लेकिन अब जब भी इसे खरीदूंगा तो केवल बढ़िया कंपनी( बढ़िया ब्रैंड) र की खरीदूंगा जिस पर उस के तैयार होने की तारीख अच्छी तरह से प्रिंट हो —–बस, ज़्यादा से ज़्यादा यही कर सकते हैं, और क्या !!

मुझे याद है कि बचपन में हमारे मोहल्ले में एक ब्रेड-वाला सरदार आया करता था जो एक ट्रंक में ब्रैड लाया करता था जो कि वह खुद तैयार किया करता था । बिल्कुल थोड़ी सी ब्रैडें उस के पास हुआ करती थीं —–लेकिन आज कल बस हर तरफ़ लालच का इतना बोलबाला है कि आम आदमी करे तो आखिर करे क्या ?

मैंने कुछ साल पहले ऐसे ही किसी से सुन तो रखा था कि कुछ ब्रेड की कंपनियों में मैदे को पैरों से गूंथा जाता है। जब मैं यह प्रोग्राम देख रहा था तो मुझे अमृतसर के कुलचे याद आये — यह केवल अमृतसर में ही बनते हैं और वहीं पर ही मिलते हैं, यह अमृतसर की एक स्पैशलिटी है। और मैं बचपन से ही इन्हें खाने का बहुत शौकीन रहा हूं। लेकिन हुआ यह कि कुछ साल पहले मैं अमृतसर गया हुया था —अपने पुराने स्कूल के पास ही हमारा एक बचपन का दोस्त सतनाम रहा करता था — तो मैं उस का पता ढूंढता ढूंढता एक मकान में घुसा ही था कि क्या देखता हूं कि एक घर के आंगन में एक दरी पर हज़ारों कुलचे बिखरे पड़े हैं जिन पर कम से कम हज़ारों ही मक्खियां भिनभिना रही थीं —-शायद उस जगह पर कुचले तैयार हो रहे थे —–उस दिन के बाद मैंने कभी कुलचे न ही खाये और न ही ता-उम्र कभी खाऊंगा। मुझे वह मंज़र याद आता है तो बड़ी तकलीफ़ होती है।

बहुत लंबे अरसे से मैं इस प्रश्न से परेशान हूं —-मदद कीजिये।


आज की अखबार की एक खबर थी —लिवर ट्रांसप्लांट के एक विशेष आप्रेशन करने के लिये दिल्ली के सर गंगा राम हास्पीटल के 35 विशेषज्ञ 16 घंटे के लिये आप्रेशन करने में लगे रहे।

इसी तरह से गुर्दे के मरीज़ों में भी ट्रांसप्लांट करने के लिये किसी मरीज को , उस के रिश्तेदारों को कितनी मेहनत करनी पड़ती है, तरह तरह के टैस्ट करवाने के लिये किस तरह से पैसों का जुगाड़ करना होता है, सारी चिकित्सा व्यवस्था कितने सुचारू रूप से अपना काम करती है — तो, लो जी हो गया सफल आप्रेशन।

मैं भी एक ऐसे ही 25-30 साल के युवक को जानता था –दो तीन साल पहले उस के गुर्दे का आप्रेशन हुआ, उस की सास ने उस को अपना गुर्दा दान में दिया था। खर्चा काफ़ी आया था लेकिन वह सारा खर्च रेलवे के चिकित्सा विभाग ने उठाया। बढ़िया से बढ़िया दवाईयां बाद में भी दी गईं —जो आम तौर पर ऐसे मरीज़ों को दी जाती हैं ताकि जो गुर्दा मरीज़ के शरीर में ट्रांसप्लांट किया गया है वह मरीज़ के शरीर द्वारा रिजैक्ट न किया जा सके।

लेकिन कुछ महीने पहले वह बेचारा चल बसा —दो अढ़ाई साल बस वह बीमार ही रहा। तीन-चार साल की उस की प्यारी से बच्ची है जो शायद आज पहले दिन स्कूल जा रही थी — किलकारियां मार रही थी , अपने कलरफुल फ्राक पर लगा आईडैंटिटी कार्ड सब को बड़े शौक से दिखा रही थी —- मुझे भी उस ने दिखाया। उस बच्ची को देख कर मन बहुत दुःखी होता है।

यह बच्ची उस घर में रहती है जहां से मैं सुबह दूध लेने जाता हूं —-ये लोग किरायेदार हैं। जितने लोग भी सुबह दूध लेने की प्रतीक्षा कर रहे होते हैं वे अकसर इस बच्ची की सुबह सुबह इस तरह की ज़ोर ज़ोर चीखें सुनते हैं ——- मुझे पापा पास जाना है !! पापा, आ जाओ ना !!

यह उस मरीज़ की बात है जो कि सरकारी सर्विस में था —रेलवे ने लाखों रूपया इलाज पर लगा दिया लेकिन क्या कोई आम आदमी अपने बल-बूते पर यह सब करवाने की सोच सकता है।

यह लंबी चौड़ी बात कहने का मकसद ? — मकसद केवल इसी बात को रेखांकित करना है कि यह जो आधुनिक इलाज हैं यकीनन बहुत ही बढ़िया हैं — इतनी तरक्की हो गई है कि कुछ भी संभव है। लेकिन ये आम आदमी की पहुंच से तो बहतु दूर हैं ही, और कईं बार इस तरह के इलाज का परिणाम क्या निकला वह तो कुछ महीनों बाद ही पता चलता है।

तो फिर चलिये इन से बचाव की बात कर ही लें —- ठीक है, कुछ केसों में शरीर की भयानक व्याधियों के बारे में cause and effect relationship को परोक्ष रूप से सिद्ध नहीं किया जा सकता। लेकिन फिर भी कोई भी आम आदमी इन से बचने के लिये क्या करता है ? वह अपनी जीवन-चर्या ठीक कर लेगा, दारू से , तंबाकू से बच कर रहेगा, दिन में थोड़ा बहुत टहल लेगा और मेहनत कर लेगा, बाज़ार में मिलने वाली तरह तरह की चीज़ों से बच कर रह लेगा……..यह सब तो बहुत हो गया लेकिन समझ लो कि बंदे ने जैसे तैसे यह सब कर ही लिया लेकिन सोचने की बात यह है कि क्या ऐसा करने से वह सेहतमंद रह पायेगा। आप का क्या ख्याल है ?

मेरा ख्याल है कि कोई गारंटी नहीं —- कारण ? कारण तो बहुत से हो सकते हैं जिन में हम नाम गिना लें कि उस को फलां फलां तकलीफ़ें तो उस की हैरेडिटी से ही मिली हैं, आजकल कीटनाशक बहुत हैं सब्जियों में, यह सब खादों की कृपा हो रही है —कह देते हैं ना हम ये सब बातें —-और ये सब बातें करते करते हम थकते नहीं हैं, रोज़ाना ये बातें घरों में होती हैं, साथ साथ चाय की चुस्कियां भरी जाती हैं।

लेकिन यह शायद कोई नहीं सोचता कि इस कमबख्त चाय में जो दूध है वह कैसा है। नहीं, नहीं, मैं उस की उत्तमता की बात नहीं कर रहा हू —-आप के दूध में साफ सुथरा पानी मिल के आ रहा है, आप का दूध वाला भैंस के दूध में गाय का दूध डाल कर दे जाता है, इसे आप मिलावट न समझें, और जो बात कईं बार मीडिया में कही जाने लगी है कि पशुओं के चारे में ही इस तरह के कैमीकल हैं कि दूध में तो फिर वे आ ही जायेंगे। यह भी मान कर ही चलें कि पशुओं को दुहने से पहले टीका भी लगना ही लगना है —- देश का कोई कानून इसी रोक नहीं पायेगा —- यह सब बातें तो अब लोगों ने स्वीकार ही कर ली हैं —चाहे इस टीके और कैमीकल्स की वजह से अब कुछ लड़के लड़कियों जैसे दिखने लगे हैं और लड़कियां लड़कों जैसी — लेकिन जो है सो है। जो भी हो, ये मुद्दे तो अब रहे ही नहीं ।

अब तो भाई इस देश का मेरे विचार में सब से बड़ा मुद्दा है मिलावाटी दूध । मेरा अपना विचार —अपने ब्लाग में लिख रहा हूं —कि until unless proven otherwise, for me every milk is adultered. मुझे इस तरह की स्टेटेमैंट के लिये माफ़ कीजिये लेकिन हमारे कुछ अपने व्यक्तिगत विचार तैयार हो जाते हैं, दूध के बारे में मेरे ऐसे ही विचार बन गये हैं।

कल मैं रोहतक में था — थैली वाले दूध से बनी चाय पी —यकीन जानिये ऐसे लगा कि दवाई पी रहा हूं — एक घूंट के बाद उसे फैंक ही दिया। वैसे चलिये मैं आप से शेयर करता हूं कि पिछले कुछ सालों से जब से यह दूध में तरह तरह के हानिकारक पदार्थ मिलाने का धंधा सामने आया है — मैं कभी भी चाय बाहर नहीं पीना चाहता — बाहर का पनीर बिल्कुल नहीं, बाहर का दही बिल्कुल नहीं — और यहां तक कि मुझे बर्फी आदि भी बहुत पसंद रही है लेकिन अब मैं उस से भी कोसों दूर रहता हूं और कभी यहां-वहां एक दो टुकड़ी खा भी लेता हूं तो अच्छी तरह से यही सोच कर खाता हूं कि मैं जैसे धीमा ज़हर ही खा रहा हूं। वैसे इतना मन मारते हुये जीना भी कितना मुश्किल है ना !! लेकिन जो है सो है, अब हमारे सब के सामूहिक लालच ने हमें आज की इस स्थिति में ला खड़ा कर दिया है तो क्या करें ? — बस, चुपचाप भुगतें और क्या !!

डाक्टर हूं, लेकिन किसी को भी पिछले कईं सालों से यह सलाह नहीं दी कि आप दूध पिया करें। और अगर देता भी हूं तो साथ में इसी तरह के लैक्चर का गिलास भी ज़रूर पिला कर भेजता हूं। अधिकतर इस तरह की सलाह मैं इसलिये नहीं देता हूं कि अगर मैं ही किसी वस्तु की गुणवत्ता के बारे में आश्वस्त नहीं हूं तो दूसरों को क्यों चक्कर मे डालूं ?

मिलावटी दूध की खबरें ऐसी ऐसी पिछले कुछ सालों से टीवी पर देख ली हैं कि अब तो ऐसी खबरें देखते ही उल्टी सी आने को होती है। और यह जो हम नाम लेते हैं ना मिलावटी दूध या कैमीकल दूध —–मुझे इस पर बहुत आपत्ति है, यह काहे की मिलावट जो लोगों को धीमे धीमे मार रही है , रोज़ उन का थोड़ा थोड़ा कत्ल कर रही है —जो लोग इस ज़हरीले दूध का धंधा कर रहे हैं क्या वे सब के सब आतंकवादी नहीं है, इस तरह के आतंकवादियों का क्या होगा ?


आप सब जानते हैं कि इस तरह के कैमीकल्स से लैस दूध में वे सब चीज़े डाली जा रही हैं जो कि आप की और मेरे सेहत से रोज़ खिलवाड़ कर रही है लेकिन यह एके47 से निकली गोली जैसी नहीं जिस का प्रभाव तुरंत नज़र आ जाये —- तरह तरह की भयंकर पुरानी ( Chronic illnesses) बीमारियां, छोटी छोटी उम्र में गुर्दे फेल हो रहे हैं, लिवर खराब हो रहे हैं, तरह तरह के कैंसर धर दबोचते हैं, लेकिन इस तरह का आतंक फैलाने वालों की कौन खबर ले रहा है ? —– शायद मेरा वह जर्नलिस्ट बंधु जो ऐसी किसी खबर को सुबह से शाम तक बार बार टीवी पर चीख चीख कर लोगों को आगाह करता रहता है लेकिन कोई सुने भी तो !!

हर कोई यह समझता है कि यह तो खबर है , दूध के बारे में जितने पंगे हो रहे हैं वे तो लोगों के साथ हो रहे हैं, हमें क्या ? अपना तो सब कुछ ठीक चल रहा है । बस, यही हम लोग भूल कर बैठते हैं।

पिछले कुछ हफ्तों से मैंने इस टॉपिक पर काफी रिसर्च की है —- लेकिन मुझे मेरे इस सवाल का जवाब अभी तक नहीं मिला कि किसी भी आम आदमी के घर में जो दूध आ रहा है क्या वह विश्वास से यह कह सकता है कि उस में कोई इस तरह की ज़हर —यूरिया, शैंपू या कोई और कैमीकल नहीं मिला हुआ। आज कल मेरी खोज कुछ ऐसा ढूंढने में लगी है कि कोई ऐसा मामूली सा टैस्ट हो जिसे कोई भी आम आदमी एक-दो मिनट में अपने घर में ही कर के यह फैसला कर ले कि आज सुबह जो दूधवाला दूध दे कर गया है उस में यूरिया, शैंपू , बाहर से मिलाई गई तरह तरह की अजीबोगरीब चिकनाई तो नहीं है जो कि उसे पीने वालों के लिये बहुत सी बीमारियां ले कर आ जायेगी। अगर, किसी ऐसे टैस्ट का जुगाड़ हो जाये तो ग्राहक भी तुरंत फैसला कर ले दूध उस के बच्चे के पीने लायक है या फिर बाहर नाली में फैंकने लायक।

पिछले हफ्तों में मैंने बहुत ही डेयरी संस्थानों की वेबसाइटें छान डालीं —-लेकिन मेरा बस एक प्रश्न वैसा का वैसा ही बना हुआ है —कि कोई तो ऐसा घरेलू टैस्ट हो जिसे कोई भी दो-चार रूपये में एक दो मिनट में कर ले और यह पता लगा ले कि क्या दूध में कोई ज़हरीले कैमीकल्स तो नहीं मिले हुये ——पानी वानी की चिंता तो छोड़िये, उस की तो सारे देश को ही आदत सी पड़ चुकी है।

अभी मेरी खोज जारी है—- कुछ न कुछ तो ढूंढ ही लूंगा, क्योंकि मैं इस विषय के बारे में बहुत ही ज़्यादा सोचता हूं। पिछले दिनों तो हद ही हो गई —-आपने भी खबर तो देखी होगी कि सातारा में कोई मैट्रिक फेल आदमी एक ऐसा कैमीकल तैयार करने लग गया जो कि वह 70 रूपये किलो बेचता था —- और इस एक किलो कैमीकल से 30 किलो दूध तैयार किया जा सकता है —-खबर थी इस तरह के कैमीकल से तैयार लाखों टन लिटर दूध बाज़ार में सप्लाई हो चुका था। लेकिन इस पावडर की यह विशेषता बताई जा रही थी कि यह दूध की गुणवता जांचने वाले सभी तरह के टैस्ट पास कर रहा था यानि कि कोई टैस्ट यह ही नहीं बता पाता था कि इस तरह से तैयार दूध में किसी तरह की कोई मिलावट भी है !! कितनी खतरनाक स्थिति है !!

लेकिन क्या है , हम सब इस तरह की इतनी खबरें देख-सुन चुके हैं कि अब यह सब कुछ भी नहीं लगता —– हम ज़िदा ही हैं ना, let’s pinch ourselves and assure ourselves that we are very much alive !!

Prevention of Food Adulteration नामक कानून से संबंधित आंकड़े कहां से मिलेंगे ? —यह जानकारी तो अपने मित्र दिनेशराय जी द्विवेदी जी ही दे पायेंगे — पता नहीं मुझे इन दिनों इस के आंकड़े जानने का इतना ज़्यादा भूत क्यों सवार है कि कितने लोगों को इस कानून के अंतर्गत कितने कितने लंबे समय की सज़ा हुई ? —- इस के बारे में कोई वेब-लिंक हो तो मुझे बताईयेगा।

पोस्ट को बंद करते वक्त बस यही अनुरोध है कि दूध एवं दूध के उत्पादनों से बहुत ज़्यादा सचेत रहा कीजिये —– आप को भी अब तो लग ही रहा होगा कि काश कोई तो ऐसा टैस्ट हो जो हमें बता सके कि घर में जो दूध आया है वह यूरिया एवं अन्य कैमीकल रहित है। इस के लिये किसी लंबे-चौड़े टैस्ट की कोई गुंजाईश नहीं है —टैस्ट बिल्कुल सुगम और सादा हो, सस्ता हो, स्वदेशी हो और इस देश की आम जनता की पहुंच में हो।

P.S……1. हम लोग मुंबई में लगभद दस साल सर्विस में रहे —अब लगता है कि जो दूध वहां पर भी इस्तेमाल किया वह सब मिलावटी ही था —- उस दूधवाले से चौबीस घंटे जितना चाहे दूध आप लेकर आ सकते थे —–हम तब सोचा करते थे कि यह दूध दही की नदियां पंजाब की बजाए अब बंबई में बहने लगी हैं क्या !!

2. उस के बाद जब हमारी नौकरी फिरोज़पुर पंजाब में लगी तो वहां पर एक मशहूर डेयरी वाला इस लिये बहुत मशहूर था कि वह तो गांव से दूध लाने वालों को उस दूध में फैट की मात्रा देख कर भुगतान करता है —वह सब दूध वालों के दूध का सैंपल भर कर रोज़ाना उन में एक इंस्ट्रयूमैंट लगा छोड़ता है —-इस से उसे फैट के प्रतिशत का पता चल जाता था —-लेकिन अब सोचता हूं कि क्या कुछ कैमीकल वगैरह से इस फैट को बढ़ाना कोई मुश्किल काम है ?

शिक्षा —- तो, साथियो, आज के पाठ से हम ने क्या सीखा ——गोलमाल है भई सब गोलमाल है।

रोटी, कपड़ा और मकान का यह गीत भी तो कुछ यही कह रहा है —–पावडर वाले दुध दी मलाई मार गई, बाकी कुछ बचा तो महंगाई मार गई !!